Zakhmi Dil Shayari In Hindi | जख्मी दिल शायरी

जिन चेहरे से मिली हमें रंगते बेवफाई , अदाए उनकी वफाओं हम क्या करेंगे zakhmi dil shayari image
Zakhmi Dil Shayari In Hindi

आज हम आप लोगो एक नए अंदाज में  Zakhmi Dil Shayari को पेस कर रहे है।

इस पोस्ट में प्यार में धोका खाने वालों के लिए Zakhmi Dil Shayari लिखा है,

इस आर्टिकल को पढ़ कर आज आपको बहुत ही अच्छा लगेगा क्यों के इस आर्टिकल में Zakhmi Dil Shayari in Hindi – , नया और जबरदस्त लिखा गया है,

हम खुद से ज़ख़्मी नहीं हुए यारो हमें जलता हुआ दर्द देकर किसी ने ज़ख्मो से ये मेरा दिल हमेशा के लिए ज़ख़्मी कर गया है|

zakhmi dil Shayari

 

जिन चेहरे से मिली हमें रंगते बेवफाई ,

अदा ए उनकी वफाओं का हम क्या करेंगे,

मेरे इस दिल को न ,दवा दीजिए जनाब, हम दर ए जख्मी नहीं, हम दिलों के मार खाए हुए हैं! Zakhmi Dil Shayari
Zakhmi dil shayari hindi quotes

मेरे इस दिल को न ,
दवा दीजिए जनाब,
हम दर ए जख्मी नहीं,
हम दिलों के मार खाए हुए हैं!

 

न वफाओं की कमी है
इस जहां में न महरूम ए वफा है,
बेवफ़ा की नजरें भी गजब की है यारों।.

 

आए दिलों से खेलने वाले,

गर औरों से खेला हो गया हो तो,

लौट आजा मैं अब भी तुम्हारे,

खिलौना बन ने को तैयार बैठा हूं।

 

जिगर मेरा ज़ख़्मी किया है जिसने……….

ये दिल अब भी उसी के इंतजार में बैठे है।

 

न वफाओं की कमी है,

आज भी तुम्हारे बिन ,

बस किसी बेवफा याद ने हमें,

रोज एक नया जख्म दिए जाते है।

 

बिन तुम्हारे ये जख्मी💔 दिल,

आज भी रोते 🥲 रहते हैं,

आए पत्थर दिल लौट आजा ,

घर मेरा तुम्हारे बिन वीरान सा लगने लगा है,

 

वफा की उम्मीद जिन्हे उन्हें होगी,

हम तो आज भी किसी……..

बेवफा की याद लिए फिरते है।

न दफन करो मेरी नाकाम मुहब्बत को यारों

मेरी वफा एक जरूर लौट आयेगी…….!!!!!

 

मेरा दिल भी पागल है यारों ,

जिसमे जख्म दिए बेचैन उसी के लिए रहते हैं।

 

क्या चलती यारों मेरी बेवफा की फरिश्तों में, 

हमको मौत भी दिए तो किस्तो किस्तों मैं।।

 

गम मुझे देके वो मेरी पहचान ले गई,

मुझ से अपनी जुदाई समान ले गई,

तलब लगी थी मुझे एक मुस्कान की,

जिंदगी भर का वो मेरा अरमान ले गई।

 

खुशियों की तलाश में जीते रहते थे हम,

जिनके वफाओं पर नाज था हमें हर कदम,

हंसियों के वादी भी न मिली मुझे ……….

घूट घूट के मर रहे हैं  जिनके नाम पर हम।

Zhakmi Dil Shayari Hindi

जितनी दर्द तुम्हारी यादों में है,

इतना तो कभी सोचा भी न था,

के जख्म से ज्यादा…………

मरहम लगाने वालों से दर्द मिलेगा।

 

बहुत तकलीफ होता है आज भी,

जब महसूस करने लगता हूं,

तुम्हारे झूठी मोहब्बत के बातो को,

आज भी जख्म हरा रहता है

आज भी रोते हूं रातों को।

न गम कम हुए न याद कम हुई.

न तुम्हारी यादों से दिल का भरम कम हुई,

 

जब भी देखता हूं औरों को मुस्कुराते हुए,

हमें वो पुराने मोहब्बत याद आने लगी,

जो तुमने किया ही नहीं और ….

वो याद एक हमें और भी रुलाने लगी।

 

जख्मी दिल शायरी कहने में

मजा ही और है यारो,

गम से अनजान थे हम और वो

हमें शायर बना ने में थी लगी,

 

प्यार तुमने किया प्यार हमने भी किया,

फिर तुम्हे सारी खुशी और मुझे ही क्यों गम मिला?

 

जिस बेवफा को हमने आता की थी धड़करने,

आज उन्हें कोई और मिल गया तो

हम पे ही बरसने लग गए।

 

हमें उम्मीद है Zhakmi Dil Shayari Hindi में आप लोगो को पढ़ने में अच्छा लगा होगा, अगर हमारी इस आर्टिकल में आप लगे के कुछ और चीज हमें जोड़ना चाहिए तो आप लोग कमेंट करें ।

और अगला पोस्ट आप लोग किस टॉपिक पर चाहते है वो भी बताएं ता के हमें और बेहतर शायरी बनाने में अच्छा लगे।

Share this post on social media platforms

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.